पूर्ण स्वराज का प्रस्ताव के महत्व को ध्यान में रखते हुए संविधान लागू करने के लिए 26 जनवरी का दिन चुना गया था

– सुमन चतुर्वेदी26 जनवरी 1950 को देश का संविधान लागू किया गया था। भारत के पहले राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद ने 21 तोपों की सलामी देकर झंडा फहराया था। तब से ही हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है। 26 जनवरी 1950 को देश को गणराज्य बना था। ऐसे में पूर्ण स्वराज का […]

Continue Reading

भारत के शौर्य, पराक्रमी देशभक्त योद्धा महाराणा प्रताप, जिन्होंने किसी के आगे सर नहीं झुकाया

   (प्रदेश अध्यक्ष, कुंवर वाहिनी, बिहार)                  भारत वीरों, योद्धाओं, क्रांतिकारियों की भूमि है। यहां की धरती अनेक महान योद्धाओं के जीवन, त्याग, बलिदान और बहादुरी की गाथाओं से भरा पड़ा है, उनमे से एक महान योद्धा हैं प्रमुख रूप से महाराणा प्रताप का भी नाम आता है जिनके बहादुरी के किस्से […]

Continue Reading

जिन्हें पालपोस कर बड़ा किया वही भेज रहे वृद्धाश्रम

-आर.के. सिन्हा राजधानी दिल्ली का पॉश ग्रेटर कैलाश इलाका। यहां समाज के सबसे सफल, असरदार और धनी समझे जाने वाले लोग ही रहते हैं। बड़ी-बड़ी कोठियों के उनके अंदर-बाहर लक्जरी कारें खड़ी होती हैं। लगता है, मानो इधर किसी को कोई कष्ट या परेशानी नहीं है। पर यह पूरा सच नहीं है। अभी हाल ही […]

Continue Reading

नोएडा-दुबई जैसा बनेगा कानपुर तो नारायणमूर्ति भी करेंगे कानपुर में निवेश

गंगा किनारे बसे प्राचीन कानपुर शहर में आपको अब भी इस तरह के अनेक लोग मिल जाएंगे, जिन्हें अच्छी तरह से याद है जब उनके शहर की पहचान एशिया के मैनचेस्टर के रूप में हुआ करती थी। भारत में कपड़े का सबसे अधिक उत्पादन इसी कानपुर शहर में होता था। इसलिए ही इसे एशिया का मैनचेस्टर […]

Continue Reading

पांडवों ने अपने वनवास के दौरान मनाई थी मकर संक्रांति

– सुमन चतुर्वेदी माघे मासे महादेव: यो दास्यति घृतकम्बलम।स भुक्त्वा सकलान भोगान अन्ते मोक्षं प्राप्यति।। मकर संक्रांति (संक्रान्ति) पूरे भारत और नेपाल में किसी न किसी रूप में मनाया जाता है। पौष मास में जब सूर्य मकर राशि पर आता है तभी इस पर्व को मनाया जाता है। वर्तमान शताब्दी में यह त्योहार जनवरी माह के […]

Continue Reading

युवाओं के कारण ही भारत ने अंग्रेजों से आजादी पायी, अब युवाओं के बूते ही देश का होगा विकास

-प्रो. नीतू सिन्हा हिंदुस्तान में प्रतिवर्ष 12 जनवरी को स्वामी विवेकानंद की जयंती को ‘राष्ट्रीय युवा दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। किसी भी राष्ट्र के निर्माण में युवाओं की सबसे अहम भूमिका होती है। युवा नेताओं के कारण ही भारत ने अंग्रेजों से आजादी पाई और अब युवाओं के बूते पर ही देश […]

Continue Reading

जाति,राजनीति और आरक्षण तीनों एक दूसरे के पूरक हैं!

– मनोज कुमार श्रीवास्तव ब्रिटिश भारत में पहली जनसंख्या जनगणना 1872 में ब्रिटिश वायसराय लॉर्ड मेयो के अधीन हुई थी और अंतिम 1931 में हुई थी। 1872-1931 के बीच प्रत्येक जनगणना ने जाति आधारित आंकड़े एकत्रित  किये।भारत की जनगणना 2011 तक 15 बार की जा चुकी है।हालांकि भारत की पहली सम्पूर्ण जातीय जनगणना 1881 में […]

Continue Reading

क्यों 2023 में महिलाओं को मिलेंगी अधिक नौकरियां

–आर.के. सिन्हा एक मशहूर बिजनेस अखबार ने कुछ दिन पहले यह खबर प्रकाशित कर दी कि भारत के प्राइवेट सेक्टर में नए साल 2023 में महिलाओं की भर्तियों में तेजी आएगी। जब अधिकतर अखबारों तथा खबरिया चैनलों में निऱाशाजनक खबरों की भरमार रहने लगी है, तब किसी भी इंसान को उपर्युक्त खबर को पढ़कर सुकून तो मिलना ही चाहिए। […]

Continue Reading

प्राकृतिक खेती से मिलेगा 50 लाख लोगों को रोजगारः जैविक मैन आर.के.सिन्हा

-मुरली मनोहर श्रीवास्तव संपूर्ण विश्व में बढ़ती हुई जनसंख्या एक गंभीर समस्या है, बढ़ती हुई जनसंख्या के साथ भोजन की आपूर्ति के लिए मानव द्वारा खाद्य उत्पादन की होड़ में अधिक से अधिक उत्पादन प्राप्त करने के लिए तरह-तरह की रासायनिक खादों, जहरीले कीटनाशकों का उपयोग पारिस्थितिकी तंत्र प्रभावित करता है, जिससे भूमि की उर्वरा […]

Continue Reading