शिवलिङ्ग को फव्वारा बताना एक निकृष्ट षडयंत्र

धर्म ज्योतिष

– समता कुमार (सुनील)
काशी स्थित ज्ञानवापी में शिवलिंग का मिलना और मस्जिद पक्षकार एवं धूर्त सेकुलर राजनेताओं के पक्ष का यह कहना कि यह शिवलिंग नहीं फव्वारा है, उसी के जवाब में हिन्दू पक्ष के वकील ने कहा कि फव्वारे और शिवलिंग में अन्तर हमें अच्छी तरह पता है। हिन्दू पक्ष के वकील ने कहा कि फव्वारा होता तो वह पानी के अन्दर नहीं बाहर होता, जो पानी भरने के बाद साफ दिखाई देता। लेकिन यंहाँ तो पानी भरने के बाद पूरी तरह ढक जाता है। दूसरी बात यह कि यदि यह शिवलिंग फव्वारा होता तो उसके नीचे पाइप का कनेक्शन होता, वो नहीं है। फव्वारा होता तो शिवलिंग के उपर छेद होता, लेकिन हमने शिवलिंग के उपर एक पतली लकड़ी डालने की कोशिश मुस्लिम पक्ष की मौजूदगी में की तो वह लकड़ी ज्यादा अन्दर तक नहीं जा सकी।
शिवलिंग पर हथोड़े से प्रहार किया गया है, इसलिए वो उपर से टूटा है मुस्लिम पक्ष से पूछा भी गया कि यदि यह फव्वारा है तो इसका कनेक्शन कहाँ है, तो उन्होंने कहा यह चालू नहीं है। यह मुगल शासको ने बनवाया था। तभी मौके पर मौजूद हिन्दू पक्षकारों ने कहा बिना कनेक्शन फव्वारा कैसे और वो भी पानी के नीचे !? हिन्दू पक्ष के वकील ने बताया कि मुस्लिम पक्ष ने इस हौदे के पानी को खाली कराने मे काफी विवाद किया था, क्योकि उनको पता था कि इसमे शिवलिंग है।
ज्ञानवापी शिवलिंग के अलावा तथाकथित मस्जिद में कई हिन्दू देवी देवताओं के चित्र भी मौजूद हैं। मस्जिद की दीवारों पर बाहर और अन्दर दोनो तरफ संस्कृत में श्लोक हैं। तहखाने में मन्दिर के गुम्बद है और जो मस्जिद का गुम्बद है वो मन्दिर के पिलर पर अलग से बनाया गया है। अन्दर के गुम्बद है, वो अलग है और बाहर जो गुम्बद है वो अलग है। हिन्दू पक्ष ने कहा कि वो कोर्ट मे अपील करेगा कि शिवलिंग के आसपास खुदाई कराई जाए। मुस्लिम समुदाय जो कह रहा है कि यह शिवलिंग एक फव्वारा है तो उनसे इसके कनेक्शन की जानकारी ली जाये। यह फव्वारा है तो इसे चलाकर मस्जिद कमेटी के लोग दिखाये, अगर फव्वारा चलता है तो हम शिवलिंग से दावा छोड़ देंगे।
इन प्रत्यक्ष साक्ष्यों के बावजूद वही मुस्लिम पक्ष सर्वे के विडीयो ओर फोटो सार्वजनिक ना हो इस पर रोक लगाने हेतु अब सुप्रीम कोर्ट गया है। इस पर हिन्दू पक्ष का कहना है कि जब मुस्लिम पक्ष कह रहा है कुछ नहीं मिला तो सर्वे की रिपोर्ट पर रोक लगाने हेतु सुप्रीम कोर्ट क्यो गया है मुस्लिम पक्ष ?
अब जबकि सर्वे शांतिपूर्ण तरीके से निपट गया है, अब सर्वे की रिपोर्ट सार्वजनिक करने की मांग हिन्दू पक्ष की ओर से कोर्ट मे की जायेगी तथा इस पर तत्काल बहस कराकर यथोचित निर्णय अविलंब आना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.